Solar Power System

Solar Power System : How much Sustainable it is

Solar power system लगाना कितना सफल है??

Solar Power System

आज का हमारा यह टॉपिक उन सभी लोगों के लिए है जिनके मन में Solar power system को लेकर के अभी भी डर या शंका है।
Solar power system पूरी दुनिया में बहुत तेजी से लोगों की पसंद एवं जरूरत बनता जा रहा है। लेकिन दुनिया भर में आज भी कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां लोग सोलर से अनजान है या तो सोलर के बारे में सही जानकारी नहीं प्राप्त है। इसी जानकारी के अभाव में अभी भी लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि सोलर पावर सिस्टम लगाना कितना सही है?
इसे जानने के लिए सोलर का इतिहास और उस से चलने वाले कुछ उपकरण एवं यंत्रों के विषय में जानना बहुत जरूरी है क्योंकि किसी चीज के बीते हुए अनुभव के आधार पर ही आप उस चीज को सही या गलत बता सकते हैं तो आइए जानते हैं सोलर से जुड़े कुछ तथ्य –

कब और कैसे बना सोलर पैनल:

सन् 1839 में फोटोवॉल्टिक प्रक्रिया द्वारा बिजली बनाने का प्रयोग शुरू हुआ था।
सन् 1883 में solar cell का आविष्कार हुआ।
सन् 1954 में सोलर पैनल का आविष्कार हुआ।

Solar power system द्वारा चलने वाला पहला यंत्र:

: सन् 1958 में Vanguard नाम का पहला solar powered satellite लॉन्च किया गया जो लगभग 60 साल से भी अधिक समय तक अंतरिक्ष में रहा।
: सन् 1964 में NASA द्वारा भेजे गए Nimbus satellite पर 470 वॉट का सोलर फोटोवोल्टिक पैनल लगाया गया। यह सेटेलाइट भी लगभग 50 वर्षों से अधिक समय अंतरिक्ष में टीका रहा।
: सन् 1973 में पहला सोलर बिल्डिंग बनाया गया जिसके पूरे छत पर सोलर पैनल लगाया गया।
: सन् 1981 में पहला सोलर विमान बनकर तैयार हुआ जिसे 1998 में फ्रांस से यूके तक उड़ाया गया वह भी 80000 फीट की ऊंचाई पर जिसका रिकॉर्ड NASA ने 2001 में 96000 फीट ऊंचाई पर विमान उड़ा कर तोड़ दिया।
: सन् 2016 में दुनिया का सबसे बड़ा सोलर विमान बनाया गया।

भारत में Solar power system की सफलता:

केरल राज्य में स्थित कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट दुनिया का पहला ऐसा एयरपोर्ट है जो पूरी तरीके से Solar power system द्वारा संचालित होता है।
देश में इसकी सफलता देखकर सरकार ने वर्ष 2030 तक देश में उत्पादित होने वाली कुल ऊर्जा में से 280 GW ऊर्जा सोलर से उत्पादित करने का लक्ष्य रखा है।इसे देखते हुए सरकार द्वारा कई बड़े प्रोजेक्ट पर कार्य किया जा रहा है, आइए जानते है इनमे से कुछ के बारे में –
: दुनिया का सबसे बड़ा floating solar power plant मध्य प्रदेश राज्य में स्थित ओमकारेश्वर सोलर पावर प्लांट है। 
: दुनिया का सबसे बड़ा roof top solar power plant पंजाब राज्य के अमृतसर में स्थित है। 
: राजस्थान के जोधपुर में स्थित भड़ला सोलर पार्क विश्व का सबसे बड़ा सोलर पार्क है। (All data are based on March 2023)
ऐसे कई अनगिनत क्षेत्र है जहां Solar power system सफलतापूर्वक कार्य कर रहे हैं।

निष्कर्ष: अगर सेटेलाइट 50 से 60 वर्षों से भी अधिक समय तक सोलर द्वारा ऊर्जा प्राप्त करके चल सकता है तो यह कहना बिल्कुल भी गलत नहीं है कि Solar power system पूरी तरह सफल है। विश्व एवं भारत में सोलर के इतिहास एवं सफल परिणामों को देखकर आप समझ ही गए होंगे कि solar power system लगाना कितना ज्यादा सफल है।
अगर आप भी एक सफल solar power system चाहते हैं तो सोलर लगाने से पहले पूरी एवं सही जानकारी प्राप्त करें और सही कंपनी द्वारा सोलर लगाए और सोलर लगाने के बाद उसके रखरखाव का भी ध्यान दें

  • All Post
  • Hybrid Solar System
  • Off Grid Solar System
  • On Grid Solar System
  • Solar Atta Chakki
  • Solar Energy System
  • Solar Module
  • Uncategorized
Load More

End of Content.

Comments are closed.