Subsidy on Solar System in Bihar

Subsidy on Solar System in Bihar

Subsidy On Solar System in Bihar

In English
हिंदी में

In Bihar, the government has implemented several subsidy schemes to promote solar energy and provide financial support to its citizens. These subsidies aim to encourage the adoption of solar power and make it more accessible. Here's a discussion about the Subsidy on Solar system in Bihar

Policy of Subsidy on Solar System in Bihar:

The Bihar state government has introduced various policies and subsidy schemes to enhance the utilization of solar energy, which is a clean and sustainable energy source in India. Today, let's talk about the Subsidy on Solar system in Bihar implemented by the government in Bihar...

Subsidy on Solar System in Bihar:

The Bihar state government launched a policy in 2017 to promote the use of solar energy in the state. The objective was to achieve a target of generating 3,500 megawatts of electricity through solar power by 2022. The aim is to reduce the health and environmental impacts associated with fossil fuels and minimize greenhouse gas emissions. Solar energy is not only a renewable energy source but also a tool to fulfill various essential needs such as energy security and improved accessibility.

The Indian government has set a target to generate 40% of the country's electricity through renewable energy sources by 2030. To achieve this goal, it is mandatory for all states in India to actively participate in establishing renewable energy sources and become self-reliant in meeting their energy demands. Bihar is one of the rapidly developing states in India. The Bihar government has also implemented a subsidy on Solar System in Bihar scheme to promote solar energy, which we will discuss further. All solar-related activities in Bihar are controlled by the Bihar Renewable Energy and Development Agency (BREADA).

Now let's delve into the discussion about the subsidy scheme in Bihar, but before that, let's understand why the government provides solar subsidies:

  1. To promote renewable energy and reduce the use of non-renewable energy sources.
  2. To mitigate climate change, as solar energy does not emit greenhouse gases.
  3. To enhance energy independence by reducing dependence on fossil fuels.
  4. To boost the country's economic growth, as a significant amount is spent on importing fossil fuels. Adopting solar energy would lead to savings in payment, which can be utilized for the country's development.
  5. To facilitate the development of energy supply technologies in our country.
  6. To address environmental issues like air pollution, water usage, and ecological damage.

Subsidy on Solar system in Bihar Scheme: The Bihar government has introduced a subsidy scheme wherein any citizen of Bihar who wants to install a solar system in their home or for any private project is eligible for a subsidy from the Bihar government.

How much subsidy will one receive? The subsidy amount may vary in different states across the country. In the case of Bihar, the current scheme offers a subsidy of 55% on the total cost of the solar energy system. However, the subsidy amount may change based on the timing and scheme.

Where to apply? You can apply for solar subsidies by visiting the website of BREADA (Bihar Renewable Energy and Development Agency). Due to the large number of applications received by the government, it takes several months to process them. Therefore, many people prefer to install solar plants through private companies or installers.

Benefits for Subsidy Applicants:

    1. Installing a solar plant will reduce the applicant's electricity bills.
    2. The installation of solar panels on roofs will help maintain a cooler environment during hot weather.
    3. Applicants can contribute to environmental conservation.
    4. Solar plant installation can be done at a lower cost under the subsidy scheme.
    5. Access to an adequate amount of electricity.

The subsidy scheme for solar systems in Bihar provides different subsidy percentages based on the capacity of the system. Here are the details:

Up to 3kW: 40% subsidy
Above 3kW up to 10kW: 20% subsidy
Above 10kW: 0% subsidy

बिहार राज्य में सोलर सब्सिडी और सोलर पॉलिसी :

सोलर एनर्जी जो कि एक क्लीन और सस्टेनेबल एनर्जी सोर्स है, इसका उपयोग बढ़ाने के लिए भारत में केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा कई पॉलिसी और सब्सिडी स्कीम लागू की गई हैं। आज हम बिहार राज्य में सरकार द्वारा लागू किए गए सोलर पॉलिसी और सब्सिडी स्कीम के बारे में चर्चा करेंगे

बिहार में सोलर पॉलिसी:

बिहार राज्य सरकार द्वारा राज्य में सोलर एनर्जी के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए 2017 में लाई गई पॉलिसी के तहत 2022 तक 3500 मेगा वाट बिजली उत्पादन करने का लक्ष्य रखा गया था जिसका उद्देश्य जीवाश्म इंधन से जुड़े स्वास्थ्य और पर्यावरणीय प्रभावों को कम करना और ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करना है। सोलर एनर्जी ना सिर्फ रिन्यूएबल एनर्जी सोर्स है बल्कि ऊर्जा सुरक्षा और पहुंच में सुधार जैसी कई आवश्यक जरूरतों को पूरा करने का उपकरण है।

भारत सरकार ने वर्ष 2030 तक देश के 40% इलेक्ट्रिसिटी जनरेशन, रिन्यूएबल एनर्जी सोर्स के माध्यम से करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को पाने के लिए भारत के सभी राज्यों के लिए अनिवार्य है कि वह रिन्यूएबल एनर्जी सोर्स को स्थापित करने में सक्रिय रूप से भाग ले और अपने राज्य की ऊर्जा मांग के संदर्भ में आत्मनिर्भर बने।
बिहार भारत में तेजी से विकास करने वाले राज्यों में से एक है।

बिहार सरकार ने सोलर एनर्जी को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी स्कीम भी लागू किया है जिसके विषय में आगे चर्चा करेंगे। बिहार में सोलर एनर्जी से संबंधित सभी कार्य बिहार रिन्यूएबल एनर्जी एंड डेवलपमेंट एजेंसी(BREADA) द्वारा कंट्रोल किया जाता है।

आगे हम बिहार राज्य में सब्सिडी स्कीम के बारे में चर्चा करेंगे लेकिन उससे पहले आइए जानते कि सोलर सब्सिडी सरकार द्वारा क्यों दी जाती है?
1. रिन्यूएबल एनर्जी को प्रमोट करने के लिए जिससे नॉन रिन्यूएबल एनर्जी का प्रयोग कम किया जा सके।
2. क्लाइमेट चेंज को कम करने के लिए क्योंकि सोलर एनर्जी ग्रीनहाउस गैस का उत्सर्जन नहीं करती है।
3. एनर्जी इंडिपेंडेंस को बढ़ाने के लिए जिससे फॉसिल फ्यूल पर निर्भरता कम किया जा सके।
4. देश के इकोनामिक ग्रोथ के लिए क्योंकि बड़ी मात्रा में फॉसिल फ्यूल विदेशों से आयात होता है जिससे एक बड़ी राशि का भुगतान करना पड़ता है। सोलर अपनाने से भुगतान की जाने वाली राशि में बचत होगी जिससे बचे हुए पैसे को देश के डेवलपमेंट के लिए लगाया जा सकेगा।
5. हमारे देश में एनर्जी सप्लाई टेक्नोलॉजी का डेवलपमेंट हो सकेगा।
6. पर्यावरण प्रदूषण जैसे एयर पॉल्यूशन, वॉटर यूजेस,इकोलॉजिकल डैमेज आदि में सुधार किया जा सकता है।

बिहार सोलर प्लांट सब्सिडी स्कीम:


यह बिहार सरकार की एक ऐसी स्कीम है जिसमें कोई भी बिहार का नागरिक अपने घर में या किसी निजी कार्य के लिए सोलर सिस्टम इनस्टॉल करवाना चाहता है तो उसे बिहार सरकार की तरफ से सब्सिडी दी जाती है।

कितनी सब्सिडी मिलेगी?

देश के हर राज्य में सब्सिडी राशि अलग अलग हो सकती है। यहां हम बिहार राज्य की बात कर रहे हैं तो अगर कोई बिहार का नागरिक सोलर प्लांट इंस्टॉल करवाता है तो बिहार सरकार वर्तमान समय में सोलर एनर्जी सिस्टम की कुल कीमत का 55% सब्सिडी देती है। या समय एवं स्कीम के अनुसार बदल सकता है।

कहां करें आवेदन?

BREADA की वेबसाइट पर जाकर सोलर सब्सिडी के लिए अप्लाई कर सकते हैं।
चूंकि सरकार के पास भारी संख्या में आवेदन आते हैं जिसे पूरा करने में कई महीने लग जाते हैं, ऐसे में बहुत से लोग किसी प्राइवेट कंपनी या इंस्टॉलर द्वारा सोलर प्लांट इंस्टॉल कराना उचित समझते हैं।

सब्सिडी आवेदक को होने वाले लाभ:
1. सोलर प्लांट इंस्टॉल करवाने से आवेदक के बिजली बिल में कमी आएगी।
2. छत पर पैनल लगाने से गर्मी के मौसम में घर में ठंडक बनी रहेगी।
3. पर्यावरण संरक्षण में भी योगदान दे सकेंगे।
4. सब्सिडी योजना के तहत सोलर प्लांट इंस्टॉलेशन कम खर्च में हो सकता है।
5. पर्याप्त मात्रा में इलेक्ट्रिसिटी मिल सकेगी।
बिहार में सोलर सिस्टम के लिए सब्सिडी योजना निर्धारित करती है, जिसमें सिस्टम क्षमता के आधार पर भिन्न सब्सिडी प्रतिशत प्रदान की जाती है। यहां विवरण दिए गए हैं:

3kW तक: 40% सब्सिडी
3kW से 10kW तक: 20% सब्सिडी
10kW से ऊपर: 0% सब्सिडी

जैसा कि आज हमने चर्चा किया है बिहार राज्य में सरकार द्वारा लागू सोलर पॉलिसी और सोलर सब्सिडी स्कीम के विषय में। फॉसिल फ्यूल पर निर्भरता कम करने और पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैस का उत्सर्जन कम करने के उद्देश्य से सरकार ने सोलर पॉलिसी बनाई और सोलर पॉलिसी के तहत सरकार ने कुछ सब्सिडी स्कीम चलाई है जिसके तहत आप सोलर एनर्जी सिस्टम इंस्टॉलेशन में लगने वाले अपने खर्च को कम कर सकते हैं और एक साफ और सस्टेनेबल एनर्जी के प्रयोग से अपने बिजली के बिल में बचत के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण और पर्याप्त मात्रा में बिजली को भी प्राप्त कर सकते हैं।

सब्सिडी के लिए आपको बिहार राज्य के पोर्टल BREADA पर जाकर अप्लाई करना होगा वहां पर पूछे गए जानकारी को फॉर्म में भरें और सोलर प्लांट लगाकर खुद के जीवन में बेहतर बदलाव ला सकते हैं